About

नैमिषारण्य 88000 ऋषि मुनियों की तपस्थली है जहां पर ऋषिमुनियों ने हजारों वर्ष तपस्या वा साधना की है यहां का प्रमुख स्थान चक्रतीर्थ है जिसकी उत्पत्ति ब्रह्मा जी के द्वारा छोड़े गए चक्र से हुई है एक बार 88000 ऋषिमुनियों ने ब्रह्माजी से कहा भगवन हमें वह स्थान बताएं जहां पर कलयुग में थोड़े समय में पूजन अर्चन जप यज्ञ तप आदि धार्मिक अनुष्ठान करने से सिद्धियों की प्राप्ति हो हमें कोई दानव दैत्य सताये और जहां पर कलि का प्रवेश निषेध हो तब ब्रह्मा जी ने अपने मन से एक चक्र का निर्माण किया और कहा यह जहां पर जाके रुकेगा वही सबसे पुनीत स्थान होगा ब्रह्मा जी द्वारा छोड़े गए चक्र के नेमि (मध्यम भाग) या शक्ति जिस आरणय (जंगल) में गिरी उसका नाम नैमिषारण्य पड़ा इससे नैमिष नैमिषारण्य नीमसार आदि नामों से जाना जाता है

प्रमुख स्थल

1 चक्रतीर्थ:

ब्रह्मा जी के द्वारा छोड़ा गया चक्र जिस स्थान पर गिरा वह स्थान चक्रतीर्थ के नाम से प्रसिद्ध है यहां पर एक कुंड है जहां पर स्नान मार्जन करने से समस्त पाप नष्ट हो जाते हैं और मनोवांछित सिद्धियों की प्राप्ति होती है। ये यहां का सबसे प्रमुख स्थान है

ललिता देवी :

यहां पर माता सती के हृदय का एक भाग गिरा है  शास्त्रों में जिसे लिंगधारिणी के नाम से जाना जाता है लेकिन प्रेम और कंगना के कारण यह ललिता देवी के नाम से प्रसिद्ध है तंत्रशास्त्र में  इसे उड्डियन पीठ के नाम से जाना जाता है।

स्वयंभू मनु सत्तरूपा तपस्थली:

इस स्थान पर सृष्टि के प्रथम पुरुष मनु महाराज महारानी सत्तरूपा जी ने 23000 वर्ष तपस्या किया है और भगवान को पुत्र रूप में पाने का वरदान प्राप्त किया जिसके कारण भगवान राम का जन्म हुआ।

4 व्यास गद्दी :

यहां पर महर्षि वेदव्यास जी ने वेदों का विभाजन किया और पुराणों में संशोधन किया अपने शिष्यों को वेदों पुराण एवं शास्त्रों का ज्ञान  दीया

5 सूत गद्दी:

यहां पर सूत जी ने शौनकादि ऋषियों को पुराणों का उपदेश दिया।

6 हनुमानगढ़ी पांडव किला:

यहां पर अहिरावण का वध करने के बाद हनुमान जी राम लक्ष्मण सहित प्रगट हुए थे और यहीं पर पांडवों ने 12 वर्ष तपस्या किया है।

7 दधिचि कुंड:

यहां पर महर्षि  दधीचि ने अपनी अस्थियों का दान दिया था और उनके लिए समस्त तीर्थों को विष्णु जी ने बुलाया था समस्त तीर्थों के जल से स्नान  दधीचि जी ने किया था  इसीलिए इसे दधिचि कुंड कहते है। क्योंकि जब समस्त तीर्थों का जल आपस में मिल गया तो इसे मिश्रित तीर्थ के नाम से पुकारा गया। इसके अतिरिक्त राम जानकी मंदिर, सिद्धेश्वर महादेव, रुद्रवर्त, हत्याहरण ,नैमिष नाथ देवराज  अहोबिलमठ, बालाजी मंदिर, कालीपीठ ,त्रिशक्ति धाम ,देवपुरी आदि दर्शनीय स्थान है